छोड़ दे सारी दुनिया Chhod De Saari Duniya Lyrics in Hindi from Saraswatichandra

Song Name : Chhod De Saari Duniya
Album / Movie : Saraswatichandra
Star Cast : Nutan, Manish
Singer : Lata Mangeshkar
Music Director : Anandji Virji Shah, Kalyanji Virji Shah
Lyrics by : Indeevar (Shyamalal Babu Rai)
Music Label : Saregama

 

Chhod De Saari Duniya Lyrics in Hindi :

छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिए
छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिए
प्यार से भी जरूरी कई काम हैं
प्यार सब कुछ नहीं ज़िन्दगी के लिए
छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए

तन से तन का मिलन हो न पाया तो क्या
मन से मन का मिलन कोई कम तो नहीं
मन से मन का मिलन कोई कम तो नहीं
खुश्बू आती रहे दूर ही से सही
सामने हो चमन कोई कम तो नहीं
सामने हो चमन कोई कम तो नहीं
चाँद मिलता नहीं सबको संसार में
चाँद मिलता नहीं सबको संसार में
है दीया ही बहुत रौशनी के लिए

छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए

कितनी हसरत से तकती हैं कलियाँ तुम्हें
क्यूँ बहारों को फिर से बुलाते नहीं
क्यूँ बहारों को फिर से बुलाते नहीं
एक दुनिया उजाड़ ही गयी है तो क्या
दूसरा तुम जहां क्यों बसाते नहीं
दूसरा तुम जहां क्यों बसाते नहीं
दिल न चाहे भी तो
दिल न चाहे भी तो
चलना पड़ता है सब की ख़ुशी के लिए
छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिए
प्यार से भी जरूरी कई काम हैं
प्यार सब कुछ नहीं ज़िन्दगी के लिए
छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए.

 

Chhod De Saari Duniya Lyrics in English :

Chhod de saari duniya kisi ke liye
Ye munaasib nahin aadmi ke liye
Chhod de saari duniya kisi ke liye
Ye munaasib nahin aadmi ke liye
Pyaar se bhi zaroori kayi kaam hain
Pyaar sab kuchh nahin zindagi ke liye
Chhod de saari duniya kisi ke liye

Tan se tan kaa milan ho na paayaa to kyaa
Man se man kaa milan koyi kam to nahin
Man se man kaa milan koyi kam to nahin
Khushboo aati rahe door hi se sahi
Saamne ho chaman koyi kam to nahin
Saamne ho chaman koyi kam to nahin
Chaand miltaa nahin sabko sansaar mein
Chaand miltaa nahin sabko sansaar mein
Hai diyaa hi bahut roshni ke liye
Chhod de saari duniya kisi ke liye

Kitni hasrat se takti hain kaliyaan tumhen
Kyun bahaaron ko phir se bulaate nahin
Kyun bahaaron ko phir se bulaate nahin
Ek duniyaa ujad hi gayi hai to kyaa
Doosraa tum jahaan kyun basaate nahin
Doosraa tum jahaan kyun basaate nahin
Dil na chaahe bhi to, saath sansaar ke
Dil na chaahe bhi to, saath sansaar ke
Chalnaa padtaa hai sab ki khushi ke liye
Chhod de saari duniya kisi ke liye
Ye munaasib nahin aadmi ke liye
Pyaar se bhi zaroori kayi kaam hain
Pyaar sab kuchh nahin zindagi ke liye
Chhod de saari duniya kisi ke liye.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *